Monday , 13 July 2020

mobile companies of india have chance of growing during boycott china among people | gadgets – News in Hindi

घरेलू मोबाइल कंपनियां इस Boycottchina के दौरान खुद के कमबैक के तौर पर देख रही हैं

लावा, माइक्रोमैक्स, इंटेक्स समेत करीब आधा दर्जन घेरलू कंपनियां बाजार में मौजूद हैं लेकिन उनका मार्केट शेयर फिलहाल ना के बराबर ही है. अब जब लोग चीनी सामान का बहिष्कार कर रहे हैं ऐसे में ये कंपनियां भी बाजार में वापसी करने की तैयारी में जुट गई हैं.

भारत और चीन (India-China) के बीच बढ़ते तनाव के माहौल में बॉयकॉट चाइनीज़ प्रोडक्ट्स और वोकल फॉर लोकल मुहिम देश में फिर से शुरू हो गई है. बात करें चीनी कंपनियों के दबदबे वाले स्मार्टफोन बाजार की, तो कैसे घरेलू मोबाइल कंपनियां इस माहौल को खुद के लिए कमबैक के तौर पर देख रही हैं. देशभर में बॉयकॉट चीनी प्रोडक्ट्स की आवाज़ एक बार फिर से गूंजने लगी है, लेकिन क्या आपको पता है कि जो मोबाइल हमारी जिंदगी की जरूरत बन गया है उनमें ज्यादातर चीनी कंपनियों के है.

लावा, माइक्रोमैक्स, इंटेक्स समेत करीब आधा दर्जन घेरलू कंपनियां बाजार में मौजूद हैं लेकिन उनका मार्केट शेयर फिलहाल ना के बराबर ही है. अब जब लोग चीनी सामान का बहिष्कार कर रहे हैं ऐसे में ये कंपनियां भी बाजार में वापसी करने की तैयारी में जुट गई हैं.

माइक्रोमैक्स ने अगले 15 से 20 दिनों में एक साथ 3 समार्टफोन लॉन्च कर धमाकेदार वापसी की योजना बनाई है. कंपनी ने अपना आखिरी फोन iOne नोट पिछले साल अक्टूबर में लॉन्च किया था. वहीं लावा का फोकस बजट कैटेगरी में नए स्मार्टफोन लॉन्च करने पर होगा.

(ये भी पढ़ें- TikTok ने अपनी सभी सोशल मीडिया की प्रोफाइल फोटो में लगाया भारत का झंडा, भड़के यूज़र्स ने लिखा- ‘RIP’)

इंडस्ट्री के जानकारों का मानना है कि इस वक्त जब घरेलू कंपनियां नए सिरे से बाजार में उतरने की तैयारी कर रही हैं, सरकार को भी घेरलू स्मार्टफोन इंडस्ट्री के लिए आत्मनिर्भर भारत के तहत आर्थिक मदद का प्रावधान करना चाहिए.

10 साल पहले चीनी मोबाइल कंपनियों को देश में कोई नहीं जानता था लेकिन सस्ते दाम और नई तकनीक के जरिए चीन ने भारत के स्मार्टफोन बाजार पर कब्जा कर लिया. एक अनुमान के मुताबिक देश में स्मार्टफोन बाजार 2 लाख करोड़ रुपए का है और इसमें 72 फीसदी से ज्यादा हिस्सा चीनी मोबाइल कंपनियों का है. ऐसे में देश में इन कंपनियों का विकल्प बनने के लिए घरेलू कंपनियों को कड़ी मेहनत करनी पड़ सकती है.
(इनपुट- CNBC आवाज़)


First published: June 28, 2020, 3:47 PM IST



Source link

Check Also

Google for India: 13 जुलाई को लॉन्च हो सकता है ये प्रोडक्ट, हो सकते हैं बड़े ऐलान भी… | gadgets – News in Hindi

टेक दिग्गज गूगल (Google) का गूगल फॉर इंडिया इवेंट 2020 (google for india) एडिशन कल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *