Monday , 13 July 2020

59 Chinese Mobile Apps पर बैन से कैसे होगा फायदा! सरकार ने दी इसकी जानकारी | tech – News in Hindi

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है ऐप पर प्रतिबंध से भारतीय स्टार्टअप को प्रोत्साहन मिलेगा और वे बहुत जल्द बेहतर संस्करण के साथ आएंगे. यह आत्मनिर्भर भारत की ओर एक सही कदम है.

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है ऐप पर प्रतिबंध से भारतीय स्टार्टअप को प्रोत्साहन मिलेगा और वे बहुत जल्द बेहतर संस्करण के साथ आएंगे. यह आत्मनिर्भर भारत की ओर एक सही कदम है.

नई दिल्ली. सूचना प्रसारण मंत्रालय (Ministry of Electronics and Information Technology) ने आईटी एक्ट एंड रूल्स के सेक्शन 69A के तहत अपनी शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए 59 ऐसी ऐप्स को बैन करने का फैसला लिया है, जो ऐसी गतिविधि में शामिल हैं जो भारत की संप्रभुता और अखंडता, भारत की रक्षा, राज्य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के लिए हानिकारक हैं. बयान में कहा गया कि यह कदम करोड़ों भारतीय मोबाइल व इंटरनेट यूजर्स के हितों की रक्षा करेगा. वहीं, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का कहना है कि ऐप पर प्रतिबंध से भारतीय स्टार्टअप को प्रोत्साहन मिलेगा और वे बहुत जल्द बेहतर संस्करण के साथ आएंगे. यह आत्मनिर्भर भारत की ओर एक सही कदम है.

अंग्रेजी के बिजनेस अखबार इकोनॉमिक टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक, ये क़दम चीनी ऐप्स पर असर डालेगा. इकोनॉमिक टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक, सामरिक दृष्टि से देखें तो इससे आर्थिक दबाव पड़ेगा, क्योंकि ये ऐप भारतीय बाज़ारों पर बहुत ज़्यादा निर्भर थे. क़ानूनी दृष्टिकोण से देखें तो भी ये एक मज़बूत क़दम है क्योंकि राष्ट्रीय सुरक्षा के आधार वाले मसलों को अदालत में चुनौती देना मुश्किल है.

वो ये भी कहते हैं कि क्या भारतीय ऐप इस ज़रूरत को पूरा कर पाते हैं या अमरीकी ऐप मार्केट शेयर पर कब्ज़ा कर लेंगे. वहीं भारतीय सोशल ऐप्स के निवेशकों का कहना है कि चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध की वजह से प्रतिस्पर्धा में कमी आएगी.

शेयरचैट ने सरकार के कदम को सराहा-चीन के 59 ऐप पर प्रतिबंध लगाने के सरकार के फैसले का व्यापारियों के संगठन कैट और घरेलू सोशल मीडिया ऐप शेयरचैट ने स्वागत किया है. उन्होंने इस फैसले का समर्थन करते हुए इसे उचित बताया है.ये भी पढ़ें-चीन को उठाना होगा भारी नुकसान! इन चाइनीज ऐप से होती थी सबसे ज्यादा कमाई

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने एक बयान में कहा, इस अभूतपूर्व कदम से कैट के ‘चीन का बहिष्कार’ अभियान को मजबूत करने में काफी मदद मिलेगी. इस अभियान में भारत के सात करोड़ व्यापारी केंद्र सरकार के साथ एकजुटता से खड़े हैं.

इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (इस्पाई) ने भी इस कदम की सराहना की है. इनमोबाइल समूह के संस्थापक एवं मुख्य कार्यकारी नवीन तिवारी ने कहा कि यह ‘डिजिटल आत्मनि क्षण है जिसके लिए ज्यादातर भारतीय समर्थन देने को खड़े थे.

 

First published: June 30, 2020, 1:56 PM IST



Source link

Check Also

Google for India: 13 जुलाई को लॉन्च हो सकता है ये प्रोडक्ट, हो सकते हैं बड़े ऐलान भी… | gadgets – News in Hindi

टेक दिग्गज गूगल (Google) का गूगल फॉर इंडिया इवेंट 2020 (google for india) एडिशन कल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *